Prize Distribution Cane

Publish Date : 12/10/2018
cane_meeting_usnagar.
रूद्रपुर 12 अक्टूबर- जिला गन्ना पुरस्कार वितरण एवं विचार गोष्ठी का आयोजन अपर जिलाधिकारी जगदीश चन्द्र काण्डपाल की अध्यक्षता मे एपीजे अब्दुल कलाम सभागार, कलेक्ट्रेट मे किया गया। अपर जिलाधिकारी ने किसानो से कहा गन्ने की शरदकालीन बुवाई का प्रारम्भ हो चुका है। किसान इस गोष्ठी मे आये वैज्ञानिको से गन्ने की उन्नत खेती के टिप्स लेकर गन्ने की अधिक से अधिक उपज ले सकते है। उन्होने बताया गन्ना किसानो की समस्याओ को ध्यान मे रखते हुए वैज्ञानिको द्वारा गन्ना बुवाई हेतु कई विधियां विकसित की गयी है। उन्होने कहा पुरानी एवं परम्परागत गन्ना बुवाई विधियों का परित्याग कर नई विधियो को अपनाकर किसान कम क्षेत्रफल मे कम से कम लागत मे अधिक लाभ अर्जित कर सकते है।
     सहायक गन्ना आयुक्त धरमवीर सिंह ने बताया गन्ना विकास विभाग द्वारा कृषकों को ट्रेंच विधि से गन्ने की बुवाई हेतु प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होने बताया ट्रेंच विधि से गन्ना बुवाई कर कुछ किसानो द्वारा विगत वर्षो मे परम्परागत विधि की अपेक्षा प्रति हेक्टेयर अधिक उपज प्राप्त की गई। उन्होने बताया ट्रेंच विधि से गन्ने के साथ-साथ अन्य फसल लेना आसान एवं आर्थिक दृष्टि से लाभदायक है। उन्होने बताया ट्रेंच विधि से गन्ने की बुवाई मे कम बीज व कम सिंचाई की आवश्कता पडती है जिससे भू-जल स्तर उचित बना रहता है साथ ही  प्रचुर मात्रा मे मिट्टी चढाने पर गन्ना जल भराव से नही गिरता है। गोष्ठी मे उपस्थित वैज्ञानिक डा0 सी0 तिवारी, के0वी0के0 एवं क्षेत्रीय प्रबन्धक इफको ने गन्ने की शरदकालीन बुवाई से सम्बन्धित जानकारियां व टिप्स किसानो के साथ साझां किये। उन्होने कहा ट्रेंच विधि से गन्ने के साथ दलहनी सहफसल लेने हेतु गन्ने मे उचित स्थान व समय दोनो ही मिलते है साथ ही दलहनी फसलो की जडो से प्राप्त होने वाली नत्रजन से भूमि की जैव उर्वरता बनी रहती है तथा रासायनिक उर्वरको की कम आवश्यकता पडती है। उन्होने बताया ट्रेंच विधि से गन्ना एकसमान मोटा व लम्बा होता है जिससे गन्ने की उपज परम्परागत विधि की अपेक्षा 25-30 प्रतिशत अधिक होती है तथा भूमिगत कीट, व्हाइट ग्रब व दीमग का आपतन कम होता है। इस अवसर पर जनपद के प्रगतिशील किसान सतेन्द्र सिह को 2258 कुन्तल प्रति हेक्टेयर गन्ना उत्पादन पर प्रथम पुरस्कार, विजय पाल सिंह को 2244 कुन्तल प्रति हेक्टेयर गन्ना उत्पादन पर द्वितीय पुरस्कार तथा ओमप्रकाश को 1188 कुन्तल प्रति हेक्टेयर गन्ना उत्पादन पर तृतीय पुरस्कार इसी प्रकार पेडी गन्ने की फसल पर ब्रजराज सिंह को 925 कुन्तल प्रति हेक्टेयर गन्ना उत्पादन पर प्रथम पुरस्कार, घासीराम को 915 कुन्तल प्रति हेक्टेयर गन्ना उत्पादन पर द्वितीय पुरस्कार तथा किसन सिंह को 895 कुन्तल प्रति हेक्टेयर गन्ना उत्पादन पर तृतीय पुरस्कार दिया गया।
– – – –

Distt Information Office

114- Collectrete, Rudrapur
US Nagar