बंद करे

प्रदेश के मा0 कृषि मंत्री/अध्यक्ष टीडीसी श्री सुबोध उनियाल की अध्यक्षता में गांधी हाॅल पंतनगर में उत्तराखण्ड सीड्स एवं तराई डवलपमेण्ट कारपोरेशन लि0 की 47वीं व 48वीं वार्षिक समान्य बैठक आयोजित हुयी

प्रकाशित तिथि : 26/12/2020
IMG_9701IMG_9701

रूद्रपुर 24 दिसम्बर,2020- प्रदेश के मा0 कृषि मंत्री/अध्यक्ष टीडीसी श्री सुबोध उनियाल की अध्यक्षता में गांधी हाॅल पंतनगर में उत्तराखण्ड सीड्स एवं तराई डवलपमेण्ट कारपोरेशन लि0 की 47वीं व 48वीं वार्षिक समान्य बैठक आयोजित हुयी। बैठक में मा0 मंत्री जी द्वारा टीडीसी को घाटे से उबारने के लिये अंशधारक कृषक, व सम्बन्धित अधिकारियों के साथ गहनता से चर्चा की। उन्होने कहा कि जब तक किसान टीडीसी के बारे में नही सोचेगा तब तक टीडीसी को घाटे से उबारना सम्भव नही है। उन्होने कहा कि उत्तराखण्ड जिस परिवेश में है उसमे कृषि की अपार सम्भावनाएं है। जिसके लिये हमे मिल कर संघर्ष करना होगा। उन्होने कहा कि सरकार लगातार किसानो के हित में काम कर रही है ताकि उनकी आर्थिकी में सुधार हो सकें। उन्होने कहा कि सरकार के साथ-साथ किसानों को भी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी। उन्होने कहा कि आज जिन लोगो के कारण टीडीसी घाटे में चल रही है उन लोगों पर एसआइटी की जांच चल रही है, दोषी चाहे कितना भी बडा क्यो न हो उसके खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। उन्होने कहा कि सरकार के लिये किसानो का हित सर्वोपरि है। उन्होने कहा कि किसान की प्रदेश के विकास में एक अहम भूमिका होती है। उन्होने सभी अंशधारक कृषकों से अनुरोध किया कि टीडीसी को अपना समझ कर कार्य करे ताकि टीडीसी को पूर्व की भांति उन उचाईयों पर पहंचाया जाय जिसके लिये टीडीसी की अपनी एक अलग छाप थी। उन्होने कहा कि सरकार द्वारा शीघ्र ही निर्धारित किया जायेगा कि उद्यान विभाग भविष्य में टीडीसी द्वारा उत्पादित बीज ही खरीदे। मा0 मंत्री जी ने कहा अच्छे कार्य करने वाले लोगों को प्रोत्साहित भी किया जायेगा। उन्होने कहा पंतनगर की पहचान टीडीसी से ही है, टीडीसी को बचाना हमारी नैतिक जिम्मेदारी भी है।
उन्होने कहा कि जब तक मैं टीडीसी का अध्यक्ष हूं टीडीसी को खडा करने का पूरा प्रयास करूगंा जिसके लिये आप सभी की भागिदारी बहुत जरूरी है। हमे कन्धे से कन्धा मिलाकर काम करने की आवश्यकता है व सभी अंशधारक टीडीसी पर पैनी नजर रखे तभी टीडीसी को पुनः सवारा जायेगा। उन्होने कहा कि हमे सीर्फ धान व गेहूं के बीज उत्पादन तक ही सीमित नही रहना है बल्कि विभिन्न प्रकार की सब्जियो के बीज उत्पादन पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है। जिसके लिये मार्केट के हिसाब से नये-नये प्रयोग करने होगें। उन्होने कहा कि हमे इस प्रकार से काम करना होगा कि हमे किसी तरह के बीजों को बाहर से न मंगाना पडे सभी बीजो का उत्पादन उत्तराखण्ड की धरती से ही हो। उन्होने कहा कि किसान को टीडीसी अपना कारपोरेशन मानकर जुडना होगा तभी टीडीसी को पुनः जीवित किया जा सकता है। उन्होने कहा जो किसान लगातार तीन वर्षो तक बीज देगा उसे प्रोत्साहन किया जायेगा व कर्मचारियो को भी बोनस की व्यवस्था की जायेगी।
जिलाधिकारी श्रीमती रंजना राजगुरू/प्रबन्धन निदेशक (टीडीसी) ने कहा कि उत्तराखण्ड सीड्स एवं तराई डवलपमेण्ट कारपोरेशन लि0 (टीडीसी) में जो घाटे की स्थिति बनी है उसको उबारने के लिये सभी का सहयोग बहुत जरूरी है। उन्होने कहा कि टीडीसी को घाटे से उबारने के लिये निरंतर प्रयास किया जा रहा है। जिसके लिये हम सभी को मिलकर सकारात्मक सोच के साथ काम करने की जरूरत है
क्षेत्रीय विधायक श्री राजेश शुक्ला ने कहा कि हमारा टीडीसी पंतनगर का बीज पूरे देश में प्रसिद्ध था जिसे पुनः जीवित करने की जरूरत है। उन्होने कहा कि हमे अन्य प्रदेशो के कृषकों को यह विश्वास दिलाना होगा कि टीडीसी द्वारा उत्पादित बीज एक उन्नत बीज है। उन्होने कहा कि किस देश में क्या उत्पादन किया जा रहा है इस पर हमे ध्यान देने व इस सम्बन्ध में कृषक विशेषज्ञो से सलाह लेकर कार्य करने की जरूरत है।
इस अवसर पर सीएमडी टीडीसी वीके गौड, कृषक मण्डल के निदेशक मुकुल महेश्वरी, पपनेजा, समरपाल, डारेक्टर रिसर्च पंतनगर, मुख्य महाप्रबन्धक पंतनगर, मुख्य कोषाधिकारी शिवानी पाण्डे, महाप्रबन्धक टीडीसी/मुख्य कृषि अधिकारी डा0 अभय सक्सेना, मुख्य उद्यान अधिकारी एचसी तिवारी सहित अंशधारक कृषक उपस्थित थे।
———————–

योगेश मिश्रा, उप निदेशक/जिला सूचना अधिकारी मो0-70550070
केेएल टम्टा अपर जिला सूचना अधिकारी मो0- 7055007023
फ़ोन- 05944-250890, ईमेल- diousnagar2013@gmail.com