Recent UpdatesStop

read more

जन संवाद सेवा

Photo Gallery

WEB RATNA DISTRICT AWARD

view photo gallery

Hit Counter 0003791021 Since: 01-02-2011

Uttarakhand Goverment Portal, India (External Website that opens in a new window) http://india.gov.in, the National Portal of India (External Website that opens in a new window)

Recent Update

Print

03-01-2018

Under Section/Module : News

जिला विकास प्राधिकरणों के गठन का मुख्य उद्देश्य सुनियोजित व व्यवस्थित तरीके से क्षेत्रों का चहुमुॅखी विकास करना है (शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक)

Publish Date: 03-01-2018

drda-k
रूद्रपुर 03 जनवरी - जिला विकास प्राधिकरणों के गठन का मुख्य उद्देश्य सुनियोजित व व्यवस्थित तरीके से क्षेत्रों का चहुमुॅखी विकास करना है। यह बात शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने डाॅ.एपीजे अब्दुल कलाम सभागार में आयोजित ऊधम सिंह नगर विकास प्राधिकरण की प्रथम बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। 
उन्होंने कहा कि क्षेत्रों के विकास व जनता के हितों का ध्यान देते हुए ही प्राधिकरण का गठन किया गया है, तथा प्राधिकरणों को जो भी राजस्व प्राप्त होगा उसका उपयोग सम्बन्धित क्षेत्रों के विकास में खर्च किया जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि प्राधिकरण के अधिकारी जमीनी स्तर पर जाकर प्राधिकरण के कार्यों एवं उद्देश्यों की पूरी जानकारी देने के साथ ही नक्शे स्वीकृत पास कराने व पूर्व प्लानिंग के साथ कार्य करने से होने वाले लाभों के विषय में भी जनता को जागरूक करने, जनता की प्रतिक्रिया लेने के निर्देश दिए।  उन्होंने नगर निगम/नगर निकाय/नगर पंचायतों तथा विकास प्राधिकारण के अधिकारियों को आपसी तालमेल के साथ कार्य करने तथा विकास की दृष्टि से महत्वपूर्ण जनपद का एक मास्टर प्लान तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने शुल्क हेतु एमडीडीए/क्षेत्रीय विकास प्राधिकरण द्वारा लिए जाने वाले शुल्क व वर्तमान परिस्थितियों का अध्ययन करने के निर्देश दिए। 
उन्होंने उप जिलाधिकारियों व प्राधिकरण के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि जमीनी स्तर पर जो भी व्यावहारिक कठिनाईयाॅ आ रही हों उनकी लिखित सूचना तत्काल शासन को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें ताकि उनका समय से निदान किया जा सके। उन्होंने कहा कि विकास प्राधिकरणों की शीघ्र ही कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश देते हुए कहा कि रेरा में उसी का रजिस्ट्रेशन किया जाये जिनका नक्शा प्राधिकरण के पास होगा। उन्होंने कहा कि रेरा में रजिस्ट्रेशन के लिए प्राधिकरण से पूर्ण कार्यवाही कराना अनिवार्य है। 
बैठक में मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि जिला विकास प्राधिकरण (यूडीए) के कार्यालय की स्थापना कलैक्ट्रेट में कक्ष संख्या 7 में कर दी गई है तथा यूडीए का खाता भी खाल दिया गया है। उन्होंने बताया कि यूडीए में तहसील रूद्रपुर, किच्छा व गदरपुर के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्रों के भवन निर्माण अनुज्ञा सम्बन्धी आवेदन पत्र प्राप्त किये जा रहे हैं। मुख्यालय के अतिरिक्त क्षेत्रीय कार्यालय काशीपुर एवं खटीमा में उप जिलाधिकारी कार्यालय में स्थापित किये गये हैं। उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय कार्यालय काशीपुर में तहसील काशीपुर, जसपुर एवं बाजपुर के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्रों तथा क्षेत्रीय कार्यालय खटीमा में तहसील खटीमा व सितारगंज के अन्तर्गत आने वाले क्षेत्रों के भवन निर्माण की अनुमति सम्बन्धी कार्य किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि 350 वर्ग मीटर तक क्षेत्रफल वाले भूखण्ड पर प्रस्तावित आवासीय भवन निमार्ण सम्बन्धी आवेदनों का निस्तारण प्राधिकरण के सचिव अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व एवं संयुक्त सचिव उपजिलाधिकारी कााीपुर/खटीमा के स्तर से निस्तारित किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि अन्य सभी प्रकार के निर्माण कार्यों की अनुमति प्राधिकरण के उपाध्यक्ष/जिलाधिकारी स्तर से निस्तारित किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि यूडीए की ई-मेल आईडी udausnagar@gmail.com  तथा दूरभाष नम्बर 05944-250152 है। वर्तमान समय में यूडीए द्वारा कार्य किया जा रहा है।
            बैठक में विधायक राजकुमार ठुकराल, प्रभारी जिलाधिकारी आलोक कुमार पाण्डेय, अपर जिलाधिकारी प्रताप सिंह शाह, परियोजना निदेशक हिमांशु जोशी, जिला विकास अधिकारी अजय सिंह, उप जिलाधिकारी विनीत तोमर, नरेश दुर्गापाल, विजयनाथ शुक्ल, मुख्य नगर आयुक्त जय भारत सिंह सहित अन्य अधिकारी उस्थित थे। 
2- सभी अधिकारी पूरी ईमानदारी, व पारदर्शिता से नियमानुसार कार्य करना सुनिश्चित करें। यह निर्देश शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने जनपद के सभी अधिशासी अधिकारियों की बैठक लेते हुए कही। 
उन्होंने कहा कि अधिनियम से हटकर कार्य करने वालें तथा कार्यों में अनियमितता व लापरवाही बरतने वालों को किसी भी दशा में बख्शा नहीं जायेगा। उन्होंने राज्य वित्त से प्राप्त धनराशि का उपयोग पेंशनरों की पेंशन, कार्मिको का वैतन, प्रकाश व्यवस्था एवं स्वच्छता हेतु आवश्यकतानुसार उपकरण लेने में खर्च करने के निर्देश दिये। उन्होंने अधिकारियों को नगर निकायों को ओडीएफ करने हेतु तेजी से कार्य करने, कूड़े का शतप्रतिशत डोर टू डोर कलैक्शन कराने, कूड़े का उचित निस्तारण हेतु कलैक्शन सेन्टर स्थापित करते हुए कलैक्शन सेन्टरों पर ही जैविक तथा अजैविक कूड़ा अलग करने, कूड़े के निस्तारण से प्राप्त धनराशि के अधिकतम भाग को कर्मचारियों में इन्सेन्टिव के रूप में वितरित करने के निर्देश दिए। 
श्री कौशिक ने अधिकारियों को हिदायत देते हुए कहा कि नगर निकायों में किये जा रहे कार्यों का उनके द्वारा भी निरीक्षण करते हुए भौतिक सत्यापन किया जायेगा तथा किसी भी निकाय में अनिमित्ता पायी जाती है तो सम्बन्धित अधिकारियों के खिलाफ मौके पर ही कार्यवाही अमल में लाई जायेगी।
बैठक में विधायक राजकुमार ठुकराल, प्रभारी जिलाधिकारी आलोक कुमार पाण्डेय, अपर जिलाधिकारी प्रताप सिंह शाह, परियोजना निदेशक हिमांशु जोशी, जिला विकास अधिकारी अजय सिंह, उप जिलाधिकारी विनीत तोमर, नरेश दुर्गापाल, विजयनाथ शुक्ल सहित अन्य अधिकारी उस्थित थे। 
-----
जिला सूचना अधिकारी,
ऊधम सिंह नगर।