Recent UpdatesStop

read more

जन संवाद सेवा

Photo Gallery

WEB RATNA DISTRICT AWARD

view photo gallery

Hit Counter 0003500514 Since: 01-02-2011

Uttarakhand Goverment Portal, India (External Website that opens in a new window) http://india.gov.in, the National Portal of India (External Website that opens in a new window)

Recent Update

Print

08-09-2017

Under Section/Module : News

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने वीडियों कान्फ्रेंसिंग के जरिये सभी जनपदों में वन भूमि के लंबित प्रकरणों व 2022 तक किसानो की आय कैसे दोगुनी की जा सकती है, सभी जनपदों की समीक्षा की।

Publish Date: 08-09-2017

रूद्रपुर 07 सितम्बर- मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने वीडियों कान्फ्रेंसिंग के जरिये सभी जनपदों में वन भूमि के लंबित प्रकरणों व 2022 तक किसानो की आय कैसे दोगुनी की जा सकती है, सभी जनपदों की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने कहा जनपद स्तर से जो भी वन भूमि हस्तान्तरण के प्रस्ताव भेजे जाते है, डीएफओ उन्हे अपने स्तर पर भलीभांति देख ले ताकि उनमे कोई आपत्ति न लगे। जिलाधिकारी व्यक्तिगत रूचि लेते हुए इसका अनुश्रवण करें। उन्होने कहा शहरी विकास के अन्तर्गत ट्रचिग ग्राउण्ड बनाने हेतु जिन जनपदो मे वन भूमि हस्तान्तरण होनी है उनके भी प्रस्ताव शीघ्र बना कर दे। मुख्यमंत्री ने विडियो कांफ्रेस के माध्यम से सभी जिलाधिकारियों के साथ 2022 तक किसानों की आय दो गुनी करने की कार्ययोजना की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी जनपदों में क्लस्टरवार कृषि को प्रोत्साहित किया जाय। फसलों की उत्पादकता बढाने के लिए उन्नत किस्म के बीजों तक किसानों की पहुंच बनानी होगी। जिलाधिकारी, क्लस्टर्स के अनुसार वहां पैदा होने वाली फसलों का अध्ययन कर, उन्नत बीजों की उपलब्धता सुनिश्चित करें। जिस क्लस्टर में जो फसल या उत्पाद चिन्हित हो उससे जुड़े सेक्टर में लोगों को स्किल डेवलेपमेंट योजना के अन्तर्गत प्रशिक्षित भी किया जाय। 

अपर मुख्य सचिव श्री ओम प्रकाश ने कहा कि जनपद मे जो एक्टीव ग्रुप कार्य कर रहे है उन्हे फोकस कर आगे बढाया जाए। उन्होने कहा 2022 तक कृषि आय को दोगुना करने के लिए जनपद मे विभिन्न क्लस्टर बनाये जाए। कृषि, उद्यान, पशुपालन, ग्रामीण विकास, मत्स्य विभाग के अधिकारी आपस मे सामन्जस्य बनाकर किसानो की आय बढाए। उन्होने कहा इसके लिए जनपद स्तर पर कोआर्डिनेशन कमेटी बनाई जाए ताकि जनपद मे सभी को लाभान्वित किया जा सके।

प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार ने कहा कि मनरेगा, आईफैड, ग्राम्या और राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के कई प्रावधानों के अन्तर्गत जिलाधिकारी, जनपदों में आजीविका संसाधन सृजित कर किसानों की मदद कर सकते है। 

कृषि सचिव श्री डी.सेन्थिल पाण्डियन ने कहा कि सभी जिलाधिकारी, अपने जनपदों में क्लस्टरवार माॅडल डी.पी.आर. बनायें।

जिलाधिकारी डा0 नीरज खैरवाल ने कहा कृषको की आय बढाने के लिए उद्यान, डेयरी मत्स्य पालन पर ध्यान दिया जा रहा है। मुख्य विकास अधिकारी आलोक कुमार पाण्डेय ने बताया जनपद मे रेशम उत्पादन को बढावा देने के लिए इस वर्ष 01 लाख, 09 हजार शहतूत के पौध रोपण किये गये, 10 हैक्टेयर मे केले की खेती करने का कार्य किया जा रहा है। महिला समूहो के माध्यम से बेल व जामून के पौधो का भी रोपण कराया जा रहा है। 

विडियो कांफें्रस मे जनपद से डीएफओ कल्याणी, नीतिशमणि त्रिपाठी, अपर जिलाधिकारी प्रताप सिंह शाह, लोनिवि के जीसी विश्वकर्मा, मुख्य कृषि अधिकारी अभय सक्सेना, सहायक गन्ना आयुक्त धरमवीर सिंह सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।