Recent UpdatesStop

read more

जन संवाद सेवा

Photo Gallery

WEB RATNA DISTRICT AWARD

view photo gallery

Hit Counter 0002726164 Since: 01-02-2011

Uttarakhand Goverment Portal, India (External Website that opens in a new window) http://india.gov.in, the National Portal of India (External Website that opens in a new window)

Recent Update

Print

20-04-2017

Under Section/Module : News

षासन के निर्देषों के क्रम मे आज जनपद के रूद्रपरु, काषीपुर व खटीमा के क्षेत्रों मे वनाग्नि को रोकने हेतु माॅक ड्रिल (पूर्वाभ्यास) किया गया जो सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ।

Publish Date: 20-04-2017

रुद्रपुर 20 अप्रैल- षासन के निर्देषों के क्रम मे आज जनपद के रूद्रपरु, काषीपुर व खटीमा के क्षेत्रों मे वनाग्नि को रोकने हेतु माॅक ड्रिल (पूर्वाभ्यास) किया गया जो सफलतापूर्वक सम्पन्न हुआ। माॅक ड्रिल हेतु जनपद मे एपीजे अब्दुल कलाम सभागार को इमरजेंसी आपरेशन सेंटर बनया गया। सर्वप्रथम ईओसी को प्रातः 9.20 बजे सूचना मिली रूद्रपुर पीपलपडाव रेंज मे आग लगी है। जिसमे सम्बन्धित वन क्षेत्र मे रहने वाले लोग भी प्रभावित हो सकते है। सूचना प्राप्त होते ही साइरन बजाया गया। 9.30 बजे तक आईआरएस से जुडे सभी अधिकारी आनन-फानन मे ईओसी पहुंचे। सर्वप्रथम जिलाधिकारी/रिसपोंसेबल आफिसर डा0 नीरज खैरवाल द्वारा आईआरएस से जुडे अधिकारियो को वानाग्नि क्षेत्रो मे कार्य करने हेतु आवश्यक दिशा-निर्देश दिये गये। उन्होने कहा अधिकारियो को जो दायित्व दिये गये है उनका निर्वहन करे और अपनी टीम का हौसला बनाये रखे। उन्होने कहा पशुओ व जानमाल की सुरक्षा पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। ब्रीफिंग के बाद आईआरएस टीम संजय वन स्टेजिग एरिया को रवाना हुई। संजय वन स्टैजिग एरिया मे एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, एसएसबी, पीआरडी, दमकल वाहन, पानी के टंेकर, मेडिकल टीम मय एंबुलेंस आदि घटना स्थल को रवाना की गई। सभी के द्वारा घटना स्थल पर अपना प्रर्दशन कर आग पर काबू पाया गया। माॅक ड्रिल मे रूद्रपुर मे 16 व्यक्ति घायल दिखाए गये जिनका मौक पर इलाज कर 12 लोगो को डिस्चार्ज किया गया व 04 लोगो को हायर संेटर रैफर किया गया एवं 15 जंगली जानवर मृत दर्शाये गए जिन्हे उसी क्षेत्र मे दफनाया गया साथ ही 03 गाय, 02 भेस, 01 बछिया, 01 भेसा बछिया का उपचार पशु चिकित्साधिकारी द्वारा किया गया। इसके अतिरिक्त माॅक ड्रिल मे रूद्रपुर मे 75 हैक्टेयर, काशीपुर मे 75 हैक्टेयर व खटीमा मे 100 हैक्टेयर जंगल वनाग्नि की चपेट मे आया दर्शाया गया। 

        जिलाधिकारी ने कहा माॅक ड्रिल करने से जहां हमे अपने संसाधनो का पता चलता है, वही दूसरी ओर माॅक ड्रिल मे जो कमियां होती है, आपदा के समय उन्हे और बेहतर कैसे किया जा सकता है। उन्होने कहा वन क्षेत्रो मे आग के नुकसान व जंगल को आग से बचाने के लिए जन-जागरूकता अभियान भी चलाये जायेंगे। उन्होने आपदा प्रबन्धन अधिकारी को निर्देश दिये जनपद मे प्राईवेट जेसीबी व आपदा के समय काम आने वाले संसाधनो की अद्यतन सूची बनाई जाए।  

      माॅक ड्रिल मे मुख्य विकास अधिकारी आलोक कुमार पाण्डेय, अपर जिलाधिकारी प्रताप सिंह षाह, सीएमओ डा0 एचके जाषी, डीएफओ नीतिषमणि त्रिपाठी, चन्द्रषेखर सनवाल, कल्याणी, ओसी कलैक्ट्रेट एनएस नबियाल, एआरटीओ नन्द किषोर, जिला आपदा प्रबन्धन अधिकारी डा0 अनिल षर्मा उपस्थित थे सहित आईआरएस सिस्टम से जुडे सभी अधिकारी उपस्थित थे।