Recent UpdatesStop

read more

जन संवाद सेवा

Photo Gallery

WEB RATNA DISTRICT AWARD

view photo gallery

Hit Counter 0002964469 Since: 01-02-2011

Uttarakhand Goverment Portal, India (External Website that opens in a new window) http://india.gov.in, the National Portal of India (External Website that opens in a new window)

Recent Update

Print

20-04-2017

Under Section/Module : News

जिलाधिकारी डाॅ0 नीरज खैरवाल ने षासन के पत्र के हवाला देते हुये बताया है कि जिले में वर्ग- 4,वर्ग-3 एवं वर्ग-1 ख की भूमियों को समय पर विनियमितीकरण किये जाने का निर्णय लिया गया है जिसके लिये प्रत्येक षनिवार को तहसीलवार षिविर लगाये जायेगे।

Publish Date: 20-04-2017

रूद्रपुर 20 अप्रेल-जिलाधिकारी डाॅ0 नीरज खैरवाल ने षासन के पत्र के हवाला देते हुये बताया है कि जिले में वर्ग- 4,वर्ग-3 एवं वर्ग-1 ख की भूमियों को समय पर विनियमितीकरण किये जाने का निर्णय लिया गया है जिसके लिये प्रत्येक षनिवार को तहसीलवार षिविर लगाये जायेगे। इस बावत जिलाधिकारी ने सभी उप जिलाधिकारियों एवं तहसीलदारों को निर्देषित किया हेै कि वह जमीनों के विनियमितीकरण की कार्यवाही षासनादेष जारी होने के 01 वर्श की अवधि के भीतर पूर्ण कराना सुनिष्चित करें। जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों/तहसीलदारों को स्पश्ट निर्देष दिये हेै कि वह जमीनों के विननियमितीकरण किये जाने के आदेष का बारीकि से परीक्षण कर लें ताकि अर्ह लोगों केा भूमियों के विनियमितीकरण की सुविधा प्रदान की जा सकें। उन्होंने निर्देष दिये है कि लगाये जाने वाले षिविरों की प्रगति हर षनिवार को उन्हें भी उपलब्ध कराई जायेगी। जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी वित्त/राजस्व तथा अपर जिलाधिकारी नजूल को अपने स्तर से विनियिमितीकरण कार्य का अनुश्रवण किये जाने के निर्देष दिये है ।

जिलाधिकारी ने उप जिलाधिकारियों/तहसीलदारों को निर्देष दिये कि वह अपने-अपने तहसीलों में माह के प्रत्येक षनिवार को जमीनों के विनियिमतीकरण के लिये लगाये जाने वाले षिविरों की आवष्यक कार्यवाही सुनिष्चित कर लें। उन्होंने कहा कि विनियमितीकरण के कार्य को समयबद्ध तरीके से पारदर्षिता के साथ पूरा किया जाये। जिलाधिकारी ने सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देष दिये है कि इन षिविरों के दौरान जमीनों के विनियमितीकरण कार्य के अलावा विरासतन दर्ज करने का कार्य,प-23 के माध्यम से भू अभिलेखों में लिपिकीय त्रुटि को संषांधित किया जाना,दाखिल खारिज के कार्य,देैवीय आपदा से प्रभावित व्यक्तियों को राहत उलब्ध कराया जाना,विभिन्न प्रकार के प्रमाण पत्रों पर आख्या लगाया जाना तथा प्राप्त लिखित षिकायतों को निस्तारण किये जाने का कार्य भी किये जायेगें। जिलाधिकारी ने बताया कि यदि षिकायतकर्ता षिकायत के निस्तारण से संतुश्ट न हो तो वह अपनी षिकायत पुनः जन षिकायत निवारण केन्द्र के दूरभाश नं0- 05944-250719 पर अथवा ई-मेल ेंउंकींदण्नाण्हवअण्पद  पर कर सकते है ।