Recent UpdatesStop

read more

जन संवाद सेवा

Photo Gallery

WEB RATNA DISTRICT AWARD

view photo gallery

Hit Counter 0003200560 Since: 01-02-2011

Uttarakhand Goverment Portal, India (External Website that opens in a new window) http://india.gov.in, the National Portal of India (External Website that opens in a new window)

Recent Update

Print

20-04-2017

Under Section/Module : News

जिलाधिकारी डाॅ0 नीरज खैरवाल ने कलक्ट्रेट सभागार में रिवर ट्रंेनिंग नीति-2016 के सम्बन्ध में राजस्व, सिंचाई, वन एवं भू- वैज्ञानिक विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर जनपद स्थित नदियों से मलवा/सिल्ट हटाये जाने हेतु रणनीति का निर्धारण किया।

Publish Date: 20-04-2017

रुद्रपुर 19 अप्रेल - जिलाधिकारी डाॅ0 नीरज खैरवाल ने कलक्ट्रेट सभागार में रिवर ट्रंेनिंग नीति-2016 के सम्बन्ध में राजस्व, सिंचाई, वन एवं भू- वैज्ञानिक विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक कर जनपद स्थित नदियों से मलवा/सिल्ट हटाये जाने हेतु रणनीति का निर्धारण किया। जिलाधिकारी द्वारा जनपद के उन क्षेत्रों में जहां नदियों में भारी मात्रा में मलवा/सिल्ट जमा है उन क्षेत्रों में मलवा/सिल्ट हटाये जाने हेतु उप जिलाधिकारी की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया गया। इस कमेटी में वन, सिचाईं एवं भू-वैज्ञानिक विभाग के अधिकारियों को सदस्य नामित किया गया है। जिलाधिकारी ने कहा कि इस रणनीति के तहत जनपद को बरसात के सीजन में बाढ की समस्या से निजात तो मिलेगी वहीं राजस्व में भी वृद्वि होगी। जिलाधिकारी ने सिचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देष दिये कि जनपद में के ऐसे नदी क्षेत्र जहां भारी मात्रा में सिल्ट जमा है उन्हें चिहिन्त कर सूची 24 अप्रेल तक उपलब्ध करा दी जाय। साथ ही उन्होंने कहा कि सिल्ट हटाये जाने हेतु नदी क्षेत्रों का चिह्नीकरण प्राथमिकता का निर्धारण करते हुए किया जाय ताकि जिन नदी क्षेत्रों में सिल्ट हटाया जाना बेहद जरुरी है उन क्षेत्रों से षीघ्र ही सिल्ट को हटाया जा सके। उन्होंने कहा कि नदी क्षेत्रों से सिल्ट उठाने की प्राथमिकता लोनिवि, सिडकुल व अन्य निर्माण संस्थाओं को दी जाय उसके बाद निजी व्यक्तियांें को सिल्ट उठाने की अनुमति दी जाय। जिलाधिकारी ने निर्देष दिये कि एक संस्था अथवा व्यक्ति को नदी में 500 मीटर की लम्बाई से अधिक क्षेत्र में सिल्ट उठाने की अनुमति न दी जाय। उन्होंने निर्देष दिये कि मलवा निकासी के लिए एक ही रास्ता बनाया जाय और निकासी गेट पर सीसीटीवी कैमरा भी लगाया जाय। उन्होंने निर्देष दिये कि पंजीकृत वाह्नों कोे ही मलवा उठाने की अनुमति दी जाय। साथ ही इन वाह्नों में हाई सिक्योरिटी नम्बर प्लेट लगाना अनिवार्य किया जाय। उन्होंने कहा कि वाह्नों द्वारा मलवा जिस स्टोन क्रषर, भण्डारणकर्ता अथवा जिस स्थान पर ले जाया जायेगा वाह्न स्वामी अथवा चालक को उसका विवरण भी देना होगा। 

     बैठक में प्रभारी अधिकारी कलक्ट्रेट एनएस नबियाल, डीएफओ नितीष मणी त्रिपाठी, कल्याणी व चन्द्रषेखर सनवाल, ईई सिचाई संजय राज, आरके आर्य व केएस बसलियाल, एसडीएम नरेष दुर्गापाल व विनोद कुमार, उप निदेषक खनन राजपाल लेघा आदि उपस्थित थे।